देश

अवैध दरगाह को हटाने के नोटिस से सुलगा जूनागढ़, थाने पर हमले में DSP समेत 4 घायल, एक की मौत

Latest National News : जूनागढ़ . गुजरात के जूनागढ़ में एक मजार को हटाने के नोटिस को लेकर शुक्रवार शाम को बवाल मच गया. सैकड़ों लोग मजार के सामने एकत्र हो गए और नारेबाजी करते हुए पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू कर दी. इस घटना में एक डिप्टी एसपी सहित चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. पुलिस का हालात पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा और टीयर गैस छोड़नी पड़ी. इस घटना में एक शख्स की मौत भी हो गई है.

जिन लोगों ने दरगाह को लेकर बवाल किया और चार पुलिस वालों को घायल किया, उन्हें देर रात गिरफ़्तार कर लिया गया. सभी को पुलिस ने उसी दरगाह के सामने खड़ा किया गया और बेल्ट से उनकी जमकर पिटाई की.

पुलिस का बयान

पुलिस के मुताबिक अभी हालात काबू में हैं और सैकड़ों पुलिसकर्मी पूरे जूनागढ़ शहर में तैनात किए गए हैं. आज तक से बात करते हुए जूनागढ़ के एसपी रवि शेट्टी ने बताया, ‘मजेवडी रोड के पास एक सड़क पर मजार है. उस दरगाह को कॉरपोरेशन ने पांच दिन पहले नोटिस जारी जारी किया था कि अगर किसी के पास इसका क्लेम है तो वह कॉरपोरेशन में पेश करे. इस नोटिस पर नाराजगी व्यक्त करने के लिए शुक्रवार को 500-600 लोग वहां एकत्र हुए थे और रास्ता रोकने की कोशिश करने लगे.

इसके बाद पुलिस वहां पर पहुंची जिसमें डीएसपी हितेश सहित अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे. एक घंटे से भी ज्यादा समय तक उन्हें समझाने की कोशिश की. उस समय किसी ने पीछे से पत्थरबाजी करते हुए नारेबाजी भी शुरू कर दी. पुलिस को इसके बाद लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा.उस पत्थरबाजी में पुलिसकर्मी घायल हो गए.’

घायल पुलिसकर्मियों की जानकारी देते हुए एसपी रवि शेट्टी ने बताया,’ डीएसपी हितेश को चार टांके लगे हैं तीन सिपाही घायल हुए हैं जबकि 2 पुलिसकर्मियों को हल्की चोटें आई हैं. पुलिस ने रातभर वहां कॉम्बिंग की और 174 आरोपियों, संदिग्धों को हमने डिटेन किया है.हम और वीडियो की जांच कर रहे हैं और जितने भी आरोपी हैं उन्हें गिरफ्तार करेंगे. फिलहाल हालात काबू में हैं. हर जगह जूनागढ़ शहर में पुलिस तैनात हैं. आईजी सहित दर्जनों पुलिस अधिकारी तथा सैकड़ों पुलिसकर्मी यहां तैनात हैं. सभी पुलिसकर्मी सुरक्षित हैं. यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है जो नहीं होनी चाहिए थी.’

क्या है मामला

दरअसल जूनागढ़ में मजेवड़ी गेट के सामने रास्ते के बीचोबीच एक दरगाह बनी है. इसे हटाने के लिए महानगर पालिका की ओर से सीनियर टाउन प्लानर ने एक नोटिस जारी किया था. नोटिस में लिखा गया था कि ये धार्मिक स्थल अवैध तरीके से बनाया गया है. पांच दिनों के अंदर ये धार्मिक स्थल के कानूनी तौर पर सही होने के सबूत पेश किए जाए वरना ये धार्मिक स्थल तोड़ा जाएगा और इसका खर्च आपको देना होगा.

धार्मिक स्थल (दरगाह) के डिमोलेशन का नोटिस लगाने महानगर पालिका के अधिकारी पहुंचे थे. नोटिस पढ़ते ही असमाजिक तत्व इकठ्ठा हो गए और नारे लगाने लगे. पुलिस ने जब उन्हें रोकने की कोशिश की तो वो हमलावर हो गए.

पुलिस पर हमला

शाम सात बजे से ही लोग इकठ्ठा होना शुरू हुए और नौ बजे 200- 300 लोग पहुंच गए और दरगाह के चारों तरफ इकठ्ठा हो हुए. जब पुलिस ने उनको इस जगह से हटाने की कोशिश की तो पत्थर फेंकने लगे और पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया. हमले में एक डिप्टी एसपी और तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए. फिलहाल हालात नियंत्रण में हैं और पुलिस पूरे शहर में चप्पे-चप्पे की जांच कर रही है.

 

एक व्यक्ति की मौत की खबर

पुलिस के मुताबिक, उपद्रवियों ने हिंसा के दौरान कई गाड़ियां भी फूंक दी। उपद्रव को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पथराव के दौरान एक व्यक्ति की मौत होने की खबर है। घटना के बाद से इलाके में काफी तनाव है। यहां बड़ी तादाद में जवानों को तैनात कर पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

एसपी जूनागढ़ रवि तेजा वासमसेट्टी ने शनिवार को कहा, ”मजेवाड़ी गेट के पास एक मजार को जूनागढ़ नगर निगम द्वारा 5 दिनों के भीतर उसके वैध होने के दस्तावेज पेश करने का नोटिस दिया गया था। कल वहां करीब 500-600 लोग जमा हुए थे। पुलिस उन्हें सड़क जाम नहीं करने के लिए समझा रही थी। रात करीब 10:15 बजे वहां पथराव किया गया और उपद्रवी लोग पुलिस पर हमला करने के लिए आ गए। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया। इस घटना में कुछ पुलिस कर्मी घायल हो गए। 174 लोगों को हिरासत में लिया गया है। प्रथम दृष्टया पथराव से एक व्यक्ति की मौत हुई है, लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा। आगे की जांच चल रही है।”

क्या है पूरा मामला?

जूनागढ़ के उपरकोट एक्सटेंशन के मजेवाड़ी दरवाजे के सामने एक दरगाह है। प्रशासन के मुताबिक, इस दरगाह में अवैध निर्माण किया गया है। नगर निगम ने इस अवैध निर्माण को हटाने के लिए दरगाह कमेटी को नोटिस दिया था। नगर निगम की ओर से दरगाह को दिए गए नोटिस में कहा गया है कि अगले 5 दिन के अंदर इस धार्मिक स्थल के कानूनी तौर पर सही होने के सबूत पेश किए जाएं वरना इसे तोड़ दिया जाएगा और इसका खर्च आपको वहन करना रहेगा। स्थानीय लोग इसका विरोध कर रहे थे। इसकी जानकारी मिलते ही शुक्रवार रात कुछ उपद्रवी लोग इकट्ठा होकर हिंसा पर उतारू हो गए और जमकर तोड़फोड़ और पथराव किया गया। पुलिस ने जब उपद्रवियों को काबू करने की कोशिश की और लाठीचार्ज किया तो उन्होंने पुलिस चौकी पर भी हमला कर दिया। पुलिस को आखिरकार भीड़ को वहां से हटाने के लिए ज्यादा पुलिस बल और रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात करना पड़ा।

Anil Mishara

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button