छत्तीसगढबिलासपुर

श्री शिशु भवन बिलासपुर में जटिल शारीरिक बनावट के साथ पैदा हुए नवजात का सफल ऑपरेशन कर दिया गया नवजीवन

बिलासपुर । आंचल का अंचल के सबसे बड़े और सर्व सुविधा युक्त बच्चों के अस्पताल श्री शिशु भवन में अपने नाम एक और उपलब्धि दर्ज की है जांजगीर चांपा में रहने वाले व्यास नारायण यादव और पुष्पा यादव के घर जब बच्चे ने जन्म लिया तो इसका उत्सव मनाने की बजाय वे चिंता में डूब गए क्योंकि बच्चा जटिल टी. ई. एफ.से ग्रसित था दरअसल हर साल देश में 18000 शिशु इस बीमारी के साथ पैदा होते हैं जिनमें से मात्र 10त्न ही सही समय पर सही अस्पताल तक पहुंच पाते हैं इनमें से भी केवल एक तिहाई को ही सफल ऑपरेशन और पोस्ट सर्जरी चिकित्सा से बचाया जा सकता है नवजात के पैदा होते ही पता चला कि उसकी आहरनाल ठीक से नहीं बनी है साथ ही बच्चों की स्वास नली भी आहार नली के साथ चिपकी हुई है है दरअसल पैदा होने के बाद जब बच्चों को दूध पिलाया गया तो वह नीला पडऩे लगा
इसके बाद इस बीमारी की जानकारी हुई जांजगीर-चांपा में प्रसव के बाद इस जटिल समस्या के सामने आने पर नवजात को श्री शिशु भवन बिलासपुर रेफर किया गया जहां पहुंचते ही नवजात की जान बचाने की कोशिश शुरू हो गई इस सर्व सुविधा युक्त बच्चों के अस्पताल में त्वरित इलाज करते हुए डॉक्टर अनुराग कुमार ने जटिल ऑपरेशन करते हुए बच्चे के आहार नली और स्वास्थ्य नाली को अलग किया फिर नवजात को वेंटिलेटर की मदद से सांस दी गई नवजात के इलाज में शिशु रोग विशेषज्ञों की टीम में शामिल डाक्टर श्रीकांत गिरी एवं उनकी टीम डॉक्टर रवि द्विवेदी, डॉक्टर प्रणव अंधारे, डॉक्टर अभिमन्यु पाठक, ने सतत निगरानी की जिसका त्वरित असर भी दिखा और जटिल बीमारी से ग्रसित शिशु ने आज स्तनपान करना भी शुरू कर दिया है नवजात के आहार नली में पाइप के द्वारा दूध पिलाना शुरू किया गया जिसके बाद बच्चे की सेहत बेहतर होती चली गई
श्री शिशु भवन के संचालक डॉक्टर श्रीकांत गिरी ने बताया कि इस तरह की बीमारी दुर्लभ है और इसका इलाज भी कठिन है यही कारण है कि ऐसे अधिकांश बच्चों को बचाना मुश्किल होता है
लेकिन इस नवजात की किस्मत अच्छी थी कि उसे सही समय पर सही अस्पताल लाया गया जिससे अब हुआ करते से बाहर है
श्री शिशु भवन की शिशु मंगल योजना
इस मौके पर डॉक्टर श्रीकांत गिरी ने बताया कि बच्चा अमीर का हो या गरीब का सब की जान की एक जैसी कीमत है कमजोर आर्थिक स्थिति की वजह से जो माता-पिता अपने बच्चों का ऐसे बड़े अस्पताल में इलाज नहीं कर सकते हैं उनके लिए श्री शिशु भवन ने एक अभिनव पहल की है जिसके तहत अब हर मंगलवार सुबह 10 से शाम 4 तक श्री शिशु मंगल योजना के तहत ऐसे बच्चों की निशुल्क ओपीडी जांच और परिवार दी जाएगी
इधर नौ महीने तक अपनी कोख में पालने और पल-पल शिशु का इंतजार में पलके बिछाकर बैठने वाली मां को जब पता चला कि उसका बच्चा ऐसी जटिल बीमारी से ग्रसित है
तो उसकी खुशी मातम में बदल गई लेकिन उनके लिए अच्छी खबर यह है कि वह सही समय पर श्री शिशु भवन पहुंच गए जहां विशेषज्ञों की टीम ने जटिल मगर सफल ऑपरेशन संपन्न करते हुए नवजात को नई जिंदगी दी है शनिवार को श्री शिशु भवन से नवजात को छुट्टी दी गई और उन्हें हंसते-हंसते विदा किया गया यह जहां श्री शिशु भवन की एक बड़ी उपलब्धि है तो वही उसे माता-पिता के लिए इससे बड़ा उपहार कुछ हो ही नहीं सकता जो अपने साथ घर आये मेहमान को लेकर लौट पाए हैं।

News Desk

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button