07 Nov 2019

हीरा कारोबारी उदय देसाई पर सीबीआई का शिकंजा, 3635 करोड़ का कर्ज न चुकाने पर शुरू हुई जांच

By EditorTaaza Khabar

दिल्ली |

कानपुर की 14 बैंकों के 3635 करोड़ रुपये के कर्जदार हीरा कारोबारी उदय देसाई भी सीबीआई के शिकंजे में आ गए हैं। मंगलवार को दिल्ली से आई टीम ने बिरहाना रोड स्थित एक बैंक की मुख्य शाखा में छापा मारकर देसाई की लोन संबंधी फाइलों को जब्त कर लिया है।

सीबीआई ने शाखा प्रबंधक से करीब दो घंटे तक पूछताछ की। यह कार्रवाई इतनी गोपनीय रही कि शाखा के कर्मचारियों तक को भनक नहीं लगी। सीबीआई ने मंगलवार को 7000 करोड़ से अधिक की बैंक धोखाधड़ी के सिलसिले में देश भर में 190 स्थानों पर छापामारी की थी। इसी क्रम में एक टीम बैंक की बिरहाना रोड स्थित मुख्य शाखा पहुंची।

तीन सदस्यीय टीम ने शाखा प्रबंधक से उदय देसाई की कंपनी फ्रास्ट इंटरनेशनल के लोन संबंधी दस्तावेज मांगे। उदय देसाई पर इस बैंक का 68 करोड़ रुपये का कर्ज है। करीब दो साल पहले यह खाता एनपीए हो गया था। कर्ज देने वाले बैंकों के कंसोर्टियम लीडर बैंक ऑफ इंडिया ने करीब दो माह पहले जांच के लिए सीबीआई को मामला रेफर किया था।

आठ साल में हासिल किए 3000 करोड़
उदय देसाई की कंपनियों मैसर्स फ्रास्ट इंटरनेशनल लिमिटेड व फ्रास्ट इंफ्रास्ट्रक्चर व एनर्जी लिमिटेड समेत कई कंपनियों ने वर्ष 2002 से 2010 के बीच तीन हजार करोड़ रुपये से अधिक का लोन लिया। वर्षों तक लोन की किस्तें ठीक चलने और लगातार लिमिट बढ़ने के बाद वर्ष 2018 में इनके खाते एनपीए होने लगे। वर्तमान में इनके 14 बैंकों में इतने ही खाते एनपीए हो चुके हैं।

लगातार डिमांड नोटिस जारी करने के बाद भी इनकी कंपनियों से लोन की रकम वापस नहीं हुई तो बैंकों ने सख्ती शुरू की। तमाम बैंकों ने मुंबई, कानपुर और गुड़गांव स्थित संपत्तियों को कब्जे में ले लिया है। कई संपत्तियां अभी जब्त होने की स्थिति में हैं और कई नीलामी की प्रक्रिया में चल रही हैं।

Tag :

Search News

Subscribe our News

Total Visits

2,022,437